Home Campus 10वीं पास के लिए यहां हैं लाखों वैकेंसी

10वीं पास के लिए यहां हैं लाखों वैकेंसी

297
0

कम पढ़े-लिखे लोगों के लिए खुशखबरी है. ऐसे लोगों के लिए प्राइवेट सिक्‍योरिटी कंपनियों में अच्‍छे अवसर निकल रहे हैं. प्राइवेट सिक्‍योरिटी इंडस्‍ट्री वर्ष 2020 तक दोगुनी होने जा रही है.

एक अनुमान के अनुसार इस समय देश में 70 लाख से भी अधिक प्राइवेट सिक्‍योरिटी गार्ड हैं और जिस तरह से यह इंडस्‍ट्री बढ़ रही है, उससे गार्ड्स से लेकर ऑफिसर तक के काफी अवसर निकल रहे हैं. यही कारण है कि सरकारी सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी भी नौकरी छोड़कर प्राइवेट कंपनियां ज्‍वाइन कर रहे हैं.

अच्‍छी बात यह है कि इस जॉब के लिए एजेंसियां वैसे तो योग्‍यता के रूप में 10वीं तय करती हैं, लेकिन इससे कम पढ़े लोगों को भी नौकरी देती हैं.

वैश्विक स्‍तर पर 180 अरब डॉलर की है इंडस्‍ट्री

वर्तमान में ग्‍लोबल लेवल पर यह इंडस्‍ड्री 180 अरब डॉलर की है, जिसके 2020 तक बढ़कर 240 अरब डॉलर के हो जाने का अनुमान है. खासकर भारत जैसे देश जहां इकोनॉमिक एक्टिविटी तेजी से बढ़ रही है, इस इंडस्‍ट्री की ग्रोथ वैश्विक ग्रोथ से काफी अधिक होने का अनुमान है.

ग्रोथ के क्‍या हैं कारण

प्राइवेट सिक्‍योरिटी इंडस्‍ट्री की जोरदार ग्रोथ के कई कारण हैं. काम के अवसर कम होने और समाज में कई तरह के विध्‍वंसक तत्‍वों के कारण चोरी, डकैती से लेकर तमाम तरह के अपराधों की संख्‍या में इजाफा हो रहा है. ऐसे में निजी कंपनियों के पास सिक्‍योरिटी गार्ड की नियुक्ति के अलावा शायद ही कोई विकल्‍प बच जाता है. निजी कंपनियों की संख्‍या भी लगातार बढ़ रही है. अब ये कंपनियां मेट्रो शहरों के साथ ही दूसरे और तीसरे दर्जे वाले शहरों की तरफ भी तेजी से रुख कर रही हैं. ऐसे में लोगों को अपने घर के पास भी जॉब के अवसर मिल रहे हैं.

एटीएम, हाउसिंग सोसायटी व शैक्षिक संस्‍थान

एटीएम और हाउसिंग सोसायटी की बढ़ती संख्‍या से भी इस इंडस्‍ट्री को बड़ा बूस्‍ट मिला है. एटीएम पर जहां सुरक्षा गार्ड रखना जरूरी कर दिया गया है, वहीं हाउसिंग सोसायटी में भी बड़ी संख्‍या में गार्ड रखे जाते हैं, ताकि वहां भी व्‍यवस्‍था बनी रहे. इसी तरह इन दिनों हर जगह अलग-अलग तरह के शैक्षिक संस्‍थान खुल रहे हैं, वारदातों के कारण यहां भी सुरक्षा की जरूरत बढ़ गई है.

पुलिस की कमी से भी मिल रहा है बूस्‍ट

भारत में पुलिस कर्मियों की कम संख्‍या के कारण भी प्राइवेट सिक्‍योरिटी इंडस्‍ट्री को जोरदार बूस्‍ट मिल रहा है. सुरक्षा के लिए अधिकांश इंडस्‍ट्री और इंस्‍टीट्यूशंस को प्राइवेट गार्ड्स पर ही निर्भर रहना पड़ रहा है.