@PU नीतीश के तमाम मिन्‍नतों पर भी नहीं पसीजा PM मोदी का‍ दिल

    134
    0
    SHARE
    Campusjosh

    नीतीश कुमार ने Patna University को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने के लिए किन किन शब्‍दों में गुहार लगायी और उसके बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दिल नहीं पसीजा.

    Patna University का शताब्दी दिवस समारोह इस बात के लिए याद रखा जाएगा कि उसके एक पूर्ववर्ती छात्र ने मुख्यमंत्री की कुर्सी का लाभ उठाते हुए अपने विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की सब तरीके से गुहार लगायी लेकिन उनकी मांग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ख़ारिज कर दी.

    नीतीश कुमार ने अपने भाषण में सबसे पहले कहा कि Patna University का संबंध मेरिट से रहा है और आज आप आ गए हैं प्रधानमंत्री जी तो लोगों के मन में पूरी आकांक्षा जाग गई है. हर बिहारवासी की आकांक्षा है और जिसका भी इस University से सरोकार है वो आपकी तरफ आशा भरी निगाहों से देख रहा है. उसके बाद नीतीश ने कहा कि जब से वो सांसद थे तब से पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्व विद्यालय बनाने की मांग हो रही है.

    Students के गुणवत्ता को देखते हुए नीतीश ने Central University का दर्जा देने की मांग की. नीतीश ने अपनी मांग के समर्थन में प्रधानमंत्री के सामने हाथ जोड़कर कहा, ‘एक ऐसे वर्ष जब महात्मा गांधी की चम्पारण यात्रा का भी शताब्दी वर्ष मनाया जा रहा है, तब पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्‍वविद्यालय का दर्जा देने से बापू को भी श्रद्धांजलि होगी.

    नीतीश ने कहा, ‘हम हाथ जोड़कर प्रार्थना करेंगे, थोड़ी कृपा कीजिये और पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिलवा दीजिये.

    उसके बाद उन्‍होंने प्रधानमंत्री मोदी से यहां तक़ कहा कि अगले 100 वर्षों तक कोई नहीं भूलेगा, खासकर बिहार का कोई भी व्‍यक्ति तो नहीं ही भूलेगा कि पटना विश्वविद्यालय केंद्रीय विश्वविद्यालय कब बना और किसकी मेहरबानी से बना.

    निश्चित रूप से प्रधानमंत्री मोदी के पास अपने तर्क थे नीतीश की मांग को ख़ारिज करने के लिए. लेकिन उनके भाषण के बाद छात्रों का मायूस चेहरा देखते बनता था.