पीएम मोदी से इसलिए नाराज हैं पटना यूनिवर्सिटी के लोग

    205
    0
    SHARE
    कैम्पस न्यूज

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के बाद Patna University के छात्र-छात्राओं और प्रोफेसरों को निराशा जरूर हुई है लेकिन उन्‍होंने चुनौती को स्वीकार करने की बात भी कही है.

    पीएम मोदी के आने से उत्साहित छात्र-छात्राएं अब निराश हैं और अब उन्हें लगता है कि प्रधानमंत्री सीधे हाथ के बजाय उल्टे हाथ से नाक पकड़ने को कह रहे हैं.

    Patna University के शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस विश्‍वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने के बजाय एक चैलेंज दिया कि दुनिया के 500 विश्‍वविद्यालयों में जगह बनाने के लिए आगे आएं.

    मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की करबद्ध प्रार्थना को अस्वीकार करते हुए पीएम ने कहा कि हम उससे आगे पीयू को ले जाना चाहते हैं. पीएम ने कहा कि देश के 10 विश्वविद्यालयों का चयन होना है जिसमें 5 निजी और 5 सरकारी विश्वविद्यालय होंगे और जिनके लिए 10 हजार करोड़ की राशि की व्यवस्था सरकार करेगी.

    पीएम ने विश्वविद्यालय की जरूर जमकर तारीफ की और कहा कि देश का कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जहां के टॉप पांच सिविल सर्विसेज के अधिकारी बिहार के इस विश्वविद्यालय के न हों. बिहार सरस्वती का उपासक रहा है लेकिन अब सरस्वती के साथ लक्ष्मी भी साथ हो यह जरूरी है.